The Motivational Story Media

News, Motivational Story & Entertainment Channel.

The Motivational Story राष्‍ट्रीय

लोकतंत्र की लक्ष्मण रेखा का पालन करने वाले राजनेता थे प्रणब मुखर्जी|

भारतीय राजनीति में एक ‘विश्वकोश’ माने जाने वाले पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, लोकतांत्रिक गरिमा की रेखा की वकालत करने वाले नेताओं की पीढ़ी के अंतिम स्तंभ थे। दादा की राजनीति में एक संकटमोचक की छवि भी बहुत खास थी, लोकतंत्र जीवंत होने के साथ, संवैधानिक नैतिकता के रास्ते पर शासन की व्यवस्था को बनाए रखने का एक मजबूत वकील था। पाँच दशकों से अधिक समय तक, उन्होंने देश की राजनीति में एक विशिष्ट पहचान बनाई, लेकिन राजनीति के अंतिम क्षण तक वह जीवित रहे।

प्रणब मुखर्जी, जिन्होंने पश्चिम बंगाल में अपने गाँव के पगडंडियों से शुरू होने वाली जीवन यात्रा लेकर राजनीति को विराम दिया, उन्होंने हमेशा शासन और राजनीति की मर्यादा का पालन किया, लेकिन दोष पर सवाल उठाने से कभी नहीं हिचके। पंडित जवाहरलाल नेहरू की लोकतंत्र में परिभाषा हमेशा से राजनीति में खुद के लिए एक आदर्श रही है। दादा इंदिरा गांधी की चतुराई के प्रशंसक थे। प्रणब मुखर्जी, जो जीवन भर कांग्रेस की राजनीतिक विचारधारा पर अटल रहे, का पार्टी की सीमाओं से परे सम्मान था। 2019 में देश के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘भारत रत्न’ से उन्हें सम्मानित करने का मोदी सरकार का निर्णय इसका सबसे बड़ा उदाहरण है।

LEAVE A RESPONSE

Your email address will not be published. Required fields are marked *